अजीम प्रेमजी: परोपकार के नायक | Biography Of A Philanthropic Hero

अजीम जी अन्य परोपकार के नायकों के साथ

अजीम प्रेमजी हमारे देश के उन परोपकारी व्यवसाइयों में से हैं जो हमेश देश के लिए कुछ करने के लिए हमेशा से तत्पर रहे और यही वजह है कि हम सभी को उन पर गर्व है| आइये आज उनके जीवन से जुड़े जानकारियां आज उनके जन्म दिवस पर बताते हैं जिनसे आप सभी कुछ सिख लेकर आगे बढ़े और देश कि सेवा करें|

व्यक्तिगत जीवन:-

अजीम प्रेमजी जन्म 24 जुलाई 1945 में मुंबई के एक गुजराती इस्माइली शिया मुस्लिम परिवार में हुआ|उनके पिता एक प्रसिद्द व्यापारी थे और उन्हें बर्मा के “चावल के राजा” के नाम से जाना जाता था|विभाजन के बाद मोहम्मद अली जिन्नाह ने उनके पिता को पाकिस्तान आने का न्योता दिया था पर उन्होंने न्योता अस्वीकार कर दिया और भारत में ही रहने फैसला किया| 1945  में उनके पिताजी मोहम्मद हाशिम प्रेमजी ने महाराष्ट्र के जलगाँव जिले के एक छोटे से शहर अमलनेर में पश्चिमी भारतीय सब्जी उत्पाद लिमिटेड की स्थापना की| यह कंपनी “सनफ्लावर वनस्पति” के नाम से एक खाना पकाने वाले तेल और साथ में कपडे  धोने वाले साबुन “787” जो तेल निर्माण की उपज थी,होता था|

उनके पिता ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए उन्हें अमेरिका के कैलिफोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय भेजा|प्रेमजी के पास स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूएसए से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग डिग्री (इंजीनियरिंग डिग्री के स्नातक के समतुल्य) में बैचलर ऑफ साइंस है। वह यास्मीन से विवाहित है। इस जोड़े के दो बच्चे हैं, ऋषद और तारिक। ऋषद वर्तमान में आईटी बिजनेस, विप्रो के मुख्य रणनीति अधिकारी हैं।पर दुर्भाग्यवश इसी बीच सन 1966 में उनके पिता की मौत हो गयी और अजीम प्रेमजी को इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़कर भारत वापस आना पड़ा। उस समय उनकी उम्र मात्र 21 साल थी।

व्यवसाय अपने हाथों में ली:-

भारत आने के बाद उन्होंने साबुन और वेजिटेबिल कारोबार करने वाली अपने पिता की कंपनी पश्चिमी भारतीय सब्जी उत्पाद लिमिटेड को संभाला जो सनफ्लॉवर वनस्पति ब्रांड नाम से खाने का तेल और कपड़े धोने का साबुन बनाती थी. अजीम प्रेमजी ने भारत लौटने के बाद कंपनी के कारोबार में बेकरी, हेयर केयर प्रोडक्ट्स और बच्चों से जुड़े प्रोडक्ट्स का उत्पादन भी शुरू किया|

कंपनी का नाम बदल विप्रो किया:-

1980 के दशक में इस युवा व्यवसायी ने सूचना प्रौद्योगिकी के सम्भावनाओं को देखते हुए और आई.बी.एम. के निष्कासन से देश के आई.टी. क्षेत्र में एक खालीपन आ गया था जिसका फायदा प्रेमजी ने भरपूर उठाया। उन्होंने अमेरिका के सेंटिनल कंप्यूटर कारपोरेशन के साथ मिलकर मिनी-कंप्यूटर बनाना प्रारंभ कर दिया। इस प्रकार उन्होंने साबुन के स्थान पर आई.टी. क्षेत्र पर ध्यान केन्द्रित किया और इस क्षेत्र में एक प्रतिष्ठित कंपनी बनकर उभरे। जीम प्रेमजी ने अपने नेतृत्व में विप्रो को नई ऊंचाइयां दी और कंपनी का कारोबार 2.5 मिलियन डॉलर से बदकार 7 बिलियन डॉलर कर दिया। आज विप्रो दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर आईटी कंपनियों में से एक मानी जाती है। फोर्ब्स मैग्जीन ने उन्हें दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूचि में उनका नाम शामिल किया है और उन्हें “भारत का बिल गेट्स” का खिताब दिया है।

पुरस्कार व सम्मान:

  • साल 2005 में अजीम प्रेमजी को भारत सरकार ने तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, जो देश के लिये बहुमूल्य योगदान के लिये दिया जाता है, से सम्मानित किया गया|
  • साल 2011 में उन्हें पद्म विभूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा उच्च नागरिक सम्मान है, से सम्मानित किया गया|
  • 2000 में, उन्हें मणिपाल अकादमी ऑफ हायर एजुकेशन द्वारा मानद डॉक्टरेट प्रदान किया गया।
  • टाइम मैगजीन के दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में उन्हें साल 2004 में और एक बार साल 2011 में शामिल किया गया था 2006 में, अजीम प्रेमजी को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग, मुंबई द्वारा लक्ष्मी बिजनेस विजनरी से सम्मानित किया गया था।
  • 2009 में, उन्हें अपने उत्कृष्ट परोपकारी काम के लिए मिडलटाउन, कनेक्टिकट में वेस्लेयन विश्वविद्यालय से मानद डॉक्टरेट से सम्मानित किया गया था।
  • साल 2010 में उन्हें एशिया वीक ने दुनिया के 20 सबसे शक्तिशाली पुरुषों में से एक के तौर पर चुना था|
  • 2015 में, मैसूर विश्वविद्यालय ने उन्हें मानद डॉक्टरेट प्रदान किया।
  • 2005 में, भारत सरकार ने व्यापार और वाणिज्य में उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए उन्हें पद्म भूषण के शीर्षक से सम्मानित किया।
  • 2011 में, उन्हें भारत सरकार द्वारा दूसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया है।
  • 2013 में, उन्हें ईटी लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड मिला।
  • 2015 में, मैसूर विश्वविद्यालय ने मानद डॉक्टरेट को अजीम प्रेमजी को सम्मानित किया।
  • अप्रैल 2017 में, इंडिया टुडे पत्रिका ने उन्हें 2017 सूची के भारत के 50 सबसे शक्तिशाली लोगों में 9 वां स्थान दिया।

लोकोपकार कार्य:-

  • अजीम प्रेमजी फाउंडेशन की स्थापना:

2001 में, उन्होंने अजीम प्रेमजी फाउंडेशन की स्थापना की, जो एक गैर-लाभकारी संगठन, एक सार्वभौमिक शिक्षा प्राप्त करने में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए एक दृष्टि के साथ, जो एक न्यायसंगत, न्यायसंगत, मानवीय और टिकाऊ समाज की सुविधा प्रदान करता है। 2001 में प्रेमजी द्वारा स्थापित गैर-लाभकारी संगठन वर्तमान में कर्नाटक, उत्तराखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़, पुडुचेरी, आंध्र प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश में विभिन्न राज्य सरकारों के साथ घनिष्ठ साझेदारी में काम करता है। स्कूल शिक्षा की गुणवत्ता और इक्विटी में सुधार करने में योगदान देने के लिए नींव ने बड़े पैमाने पर ग्रामीण इलाकों में काम किया है।

इसके अलावा मार्च 2019 में प्रेमजी ने अपने पास रखे हुए विप्रो के 34 फीसदी शेयर अजीम प्रेमजी फाउंडेशन में दे दिए जिनकी कीमत करोड़ों डॉलर में है.

अजीम कहते हैं- हमारे देश में लाखों बच्चे स्कूल नहीं जाते। देश को आगे ले जाने के लिए शिक्षा सबसे जरूरी जरिया है।“

दिसंबर 2010 में, उन्होंने भारत में स्कूल शिक्षा में सुधार के लिए 2 अरब अमेरिकी डॉलर दान करने का वचन दिया। यह अजीम प्रेमजी ट्रस्ट को नियंत्रित कुछ इकाइयों द्वारा आयोजित विप्रो लिमिटेड के 213 लाखों का हिस्सा को स्थानांतरित करके किया गया है। यह दान भारत में अपनी तरह का सबसे बड़ा है।

अजीम कहते हैं- मुङो लगता है कि अगर ईश्वर ने हमें दौलत दी है, तो हमें दूसरों के बारे में जरूर सोचना चाहिए। ऐसा करके ही हम एक बेहतर दुनिया बना पाएंगे।अगर आप समर्थ हैं, आपके पास दौलत है, तो समाज के लिए कुछ करिए। जब आपके पास पैसा और ताकत, दोनों हों, तब समाज के प्रति आपकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है।“

  •  लोकोपकार – जीवन का शपथ:

·         अगस्त 2010 में, अमेरिका के 40 सबसे धनी व्यक्ति समाज की कुछ प्रमुख समस्याओं को दूर करने के लिए अपने धन का अधिकांश हिस्सा देने की प्रतिबद्धता में शामिल हुए। बिल और मेलिंडा गेट्स और वारेन बफेट द्वारा निर्मित, “द गिविंग प्लेज” दुनिया भर के परोपकारी लोगों के साथ बातचीत की एक श्रृंखला के बाद जीवन में आया कि वे कैसे सामूहिक रूप से अल्ट्रा-धनी के बीच उदारता का एक नया मानक स्थापित कर सकते हैं।

“प्रेमजी ने कहा है कि अमीर होने से उन्हें रोमांच नहीं मिला

वॉरेन बफेट और बिल गेट्स के नेतृत्व में एक अभियान, द गिविंग प्लेज के लिए साइन अप करने वाले पहले भारतीय बने। इस परोपकार क्लब में शामिल होने के लिए रिचर्ड ब्रैनसन और डेविड सैन्सबरी के बाद वह तीसरे गैर-अमेरिकी हैं। 

मुझे दृढ़ विश्वास है कि हम में से, जिन्हें धन रखने का विशेषाधिकार है, उन्हें उन लाखों लोगों के लिए बेहतर दुनिया बनाने और बनाने के लिए महत्वपूर्ण योगदान देना चाहिए जो बहुत कम विशेषाधिकार प्राप्त हैं|अजीम प्रेमजी (एपी) अप्रैल 2013 में उन्होंने कहा कि उन्होंने दान के लिए अपनी व्यक्तिगत संपत्ति का 25 प्रतिशत से अधिक पहले से ही दिया है।जुलाई 2015 में, उन्होंने विप्रो में अपनी 18% हिस्सेदारी दे दी, जिससे उनका योगदान अब तक 39% हो गया।

Please follow and like us:

Nice1-Story

I'm Yogendra Kumar. I have started writing since July, 2020. I like blogging, sharing and writing about the positivity of the world. You can find here Best Motivational Quotes, Success Story, Inspirational Quotes, Biography, Life Inspiring Quotes, Ethics Story, Life Changing Quotes, Motivational Story,Positive Thinking Quotes, Inspirational Story, Success Mantra, Self Development Quotes, Dharma, Home Cure Tips.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.