एडोल्फ हिटलर के सर्वश्रेष्ठ विचार | Best Quotes Of “Edolf Hitler”

दोस्तों आप सबने जर्मनी के प्रसिद्द तानाशाह के बारे में सुना तो होगा? वह तानाशाह तो था ही लेखक भी था और जर्मनी ही नहीं पूरे विश्व में प्रसिद्द था।

जी हाँ सही समझे मैं बात कर रहा हूँ जर्मनी के प्रसिद्द तानाशाह एडोल्फ हिटलर की।

हिटलर का जन्म 20 अप्रैल, 1889 में ऑस्ट्रिया में हुआ था। प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद ही वह प्रथम विश्व युद्ध के दौरान सेना में भर्ती हो गया था और कई लड़ाइयों में उसने भाग भी लिया। उसमे देश-प्रेम भी भावना कूट-कूट कर भरी हुई थी, यही कारण है कि वह अपने जीवन के अंतिम समय तक देश के लिए ही जिया। सन 1918 में नाजी दल कि स्थापना करने के पश्चात् उसे नाजी (राष्ट्रीय समाजवादी जर्मन कामगार पार्टी) का प्रमुख बना दिया गया। हिटलर जर्मनी का शासक 1933- 1945 तक बना रहा। उसे अपने कार्यों से ही पूरे विश्व में “तानाशाह” की संज्ञा मिली थी।

  • सत्य मायने नहीं रखता बल्कि जीत रखता है।
  • सभी चीजों का जनक संघर्ष है, जानवरों के इस संसार में कोई मानव की तरह दूसरो को बचता नहीं बल्कि खुद संघर्ष करके जीतता है।
  • किसी भी देश पर विजय प्राप्त करने के लिए सबसे पहले वहां के नागरिकों को अपने काबू में करो।
  • विश्वास के विरुद्ध लड़ना हमेशा गया के विरूद्ध लड़ने से ज्यादा कठिन है।
  • शक्ति आक्रमण करने से दिखती है, ना कि बचाव करने से।
  • आपकी सफलता ही सही और गलत का निर्णय करती है।
  • दूसरो में जूनून पैदा करने के लिए खुद का जुनूनी होना जरुरी है।
  • अगर कोई बिना मुश्किलों से लाडे जीतता है तो वह सिर्फ उसकी जीत है। लेकिन अगर मुश्किलों से लड़कर जीतता है तो वह “इतिहास” है।
  • जितने वाले से कभी पूछा नहीं जाता कि उसने क्या सच कहा था।
  • अगर कोई निर्णय लेना है तो उसके पहले हजार बार सोचों लेकिन एक बार निर्णय लेने के बाद उससे कभी पीछे मत हटो चाहे कोई भी परेशानी कितनी भी तकलीफें आये।
  • प्रचार इतनी अच्छी होनी चाहिए कि काम बुद्धिमान के साथ-साथ मुर्ख भी समझ आ जाना चाहिए।
  • जर्मनी एक विश्वशक्ति होगा या फिर होगा ही नहीं।
  • जिस गठबंधन का उद्देश्य युद्ध शुरू करना नहीं है वो मूर्खतापूर्ण और बेकार है।
  • एक ईसाई होने के नाते मुझे खुद को ठगे जाने से बचाने का कोई आशय नहीं है, लेकिन सत्य और न्याय के लिए लड़ना मेरा हमेशा कर्त्तव्य रहेगा।
  • कुशल रणनीति और प्रचार के जरिये लोगों को स्वर्ग भी नर्क की तरह दिखाया जा सकता है, और नर्क भी स्वर्ग की की तरह दिखाया जा सकता है।
  • तोड़-फोड़, भय, आश्चर्य के जरिये दुश्मन को अंदर से हतोत्साहित कर दो, यह भविष्य की लड़ाई है।
  • महान असत्यवादी ही महान जादूगर भी होते हैं।
  • नापसंद की तुलना में नफ़रत अधिक स्थायी होता है।
  • युवाओं का मालिक ही भविष्य में उसका लाभ उठता है।
  • मानवतावाद, मूर्खता और कायरता की अभिव्यक्ति की निशानी है।
  • आज सिर्फ ये मानना है कि आज मेरा आचरण सर्शक्तिमान निर्माता की इच्छा के अनुसार है।
  • मुझे ये बात समझ नहीं आता कि मनुष्य प्रकृर्ति के जितना क्रूर क्यूँ नहीं है।
  • मैं अधिकतर लोगों के लिए सिर्फ भावना का प्रयोग करता हूँ और कुछ के लिए उसका कारण बचा कर रखता हूँ।

1 thought on “एडोल्फ हिटलर के सर्वश्रेष्ठ विचार | Best Quotes Of “Edolf Hitler””

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.